Tata Punch first drive review: Pocket-sized SUV with rocket-sized promises

Tata Punch first drive review

 

On a fine October morning in Delhi recently, I got to spend an entire day with the Tata Punch to figure out all the answers and assess what this new sub-compact SUV has on offer. A punchy name, after all, is just a name and the real proof of its capabilities lies out in the open world.

Read on for the extensive first-drive review of Tata Punch.

Tata Punch: Exterior

Tata Punch is being offered in four variants, or personas as Tata Motors likes to call these. Much of the details highlighted here would depend on which variant or persona one opts for. There is the base which is called Pure, followed by Adventure, Accomplished and the top-end Creative. It is a clever marketing strategy because even if you opt for the base model, all you have to say is “I bought the Punch in Pure persona”. Fancy!

 
Punch has a very prominent face which underlines its SUV credentials.

 

Tata Punch first drive review

There are multiple colour options on offer but not all variants get all colour choices.

Tata Punch colour optionsPureAdventureAccomplishedCreative (Dual-tone roof)
     
Orcus WhiteYesYesYesYes (Black roof)
Daytona GreyYesYesYesYes (Black roof)
Tropical Mist YesYesYes (Black roof)
Atomic Orange YesYesYes (Black roof)
Meteor Bronze  YesYes (Black roof)
Tornado Blue   Yes (White roof)
Calypso Red   Yes (White roof)

The Punch I received as part of the media test drives was in Tornado Blue shade with white roof and the top-end Creative variant. In terms of dimensions, obvious at that, the all variants are same and the Punch has compact numbers while still looking showing off an SUV-ish profile. The prominent front face with a familiar ‘Humanity Line’ on the grille, the LED DRLs and head light units that seem to have been taken straight from the Harrier and the fog light units on the front fender give it a muscular appeal.

A look at he front and side profile of Tata Punch.

On the side, the large arches over the 15- or 16-inch wheels – depending on the variant, striking alloy design, generous cladding on the doors and roof rails highlight the profile. The fact that this car also has doors which open at a 90-degree angle – mimicking a butterfly, visually speaking, means that getting in and out is quite easy, space permitting of course.

All four doors on the Punch open at a 90-degree angle. Just be sure not to hit anyone or anything else!
Tata Punch dimensions 
  
Length (mm)3827
Width (mm)1945
Height (mm)1615
Wheelbase (mm)2445

And the rear has a sleek demeanour courtesy arrow-shaped LED tail lights, double character lines on the trunk door and ‘Punch’ lettering here.

A look at the rear profile of Tata Punch.

Best Motivational Quotes For Life

Open the trunk and there’s around 360 litres of boot space available even if the load angle is a little high and could make lifting heavy suitcases a bother. While the addition of a tyre puncture repair kit, tucked neatly on one corner, is great, the exposed wiring on the inside trunk section is shoddy. The support hinge for the parcel tray in my review unit came off at the slightest bit of tug. Word of advise – don’t put anything remotely heavy on the tray.

Minor quality-related issues like this hook for the parcel tray coming off its casing may be a concern for a few on the Punch.

Tata Punch first drive review 2024

Tata Punch: Interior

Punch has a rather compact cabin because of its rather compact dimensions. If you step in with expectations kept sky high, it is likely that the fall back to the ground will hurt. There’s no sunroof, no air purification system, no wireless phone charging option and no ambient lighting. What one can get, depending on the variant of course, are functional features for everyday use such as a cooled glovebox, infotainment screen, climate control, auto-folding ORVMs, rain-sensing wipers, automatic headlights, four speakers with two tweeters, among other additions.

Tata Punch variant-wise features   
PureAdventureAccomplishedCreative
 All features of Pure and…All features of Adventure and….All features of Accomplished and…
Central locking with key Floating 3.5 inch infotainment Floating 7 inch touch screen infotainment by Harman with Android Auto and Apple Car Play Projector HLs
Dual airbags Four speakers Four speakers, two tweeters LED DRLs
ABS with EBD Steering mounted control   Rear view camera R16 Diamond cut alloys  
IAC+ESS Technology USB charging port LED tail lamps Roof rails
Brake Sway Control ORVM with electrical adjustment Front fog lamps 7 inch TFT instrument cluster
Front power windows All power windows R15 hyper style wheels Auto headlamps
90-degree door Follow me home HLs Push button start stop Rain sensing wipers 
Flat rear floor Anti glare IRVM One touch down Dr window Auto folding ORVMs
LED indicators Central Remote Locking with Flip Key  Cruise control Fully automatic temperature control
Black ODH Full wheel covers Driver seat height adjustment Cooled glove box
Painted bumpers Body coloured ORVM, ODH Traction Pro (AMT only) Rear wiper + wash
Door, wheel arch and sill cladding   Rear defogger
    Puddle lamps
    Rear seat arm rest
    Leather steering & Gear knob

One can also choose from a host of customization options when buying the Punch, a sign that Tata Motors does not want you to be limited in your desire for more features just because you chose a lower variant.

PureAdventureAccomplishedCreative
Rhythm PackRhythm PackDazzle PackIRA Pack
3.5-inch infotainment screen7-inch touchscreen16-inch diamond cut alloysIRA Connected Car technology
4 speakers2 tweetersLED DRLs 
Steering-mounted audio controlAndroid Auto/Apple CarPlayProjector head lights 
 Rear cameraA Pillar black tape 
    

The seven-inch infotainment screen inside my Persona was par for the course courtesy minimal reflections and good response to touch inputs. Apart from the usual audio, video and navigation details, it also puts out a driver scorecard which assesses how well (or not) you have been behind the wheel. The semi-digital driver display too was on expected lines and is positioned well behind the three-spoke, flat-bottomed steering with mounted controls. The steering, however, can only be adjusted for rake and not for reach.

A look at the cabin layout of Tata Punch.

Tata Punch first drive review The New Tata Punch

Now there is a lot of hard plastics used all around the cabin of the Punch but frankly, I was expecting this. Because Tata is likely to price Punch aggressively, this is something that can be overlooked. What is impressive though is the sporty dashboard design and layout which seek to camouflage the plastic quality, especially the white patterned addition on the lower end of the dash -where the AC vents are at. Speaking of AC vents, these get an outline border in the same hue as the exterior body colour of the vehicle.

The entire dashboard layout of Punch has a youthful appeal.

The cooled glovebox is a great addition and has plenty of space for storing either documents or bottles. Or both. A sectional divide here seeks to ensure that things don’t get jumbled.

Coming to the important bit about seat upholstery and spacing, Tata Punch tends to deliver on most counts. The seats are well cushioned and the quality of stitching appeared to be satisfactory. The driver seat can be adjusted for height which means even someone who may not exactly be considered tall will have a commanding view of the road ahead. I would have expected an arm rest, at least with the AMT I was driving, but there was none to be found.

The passengers on the back seat, well, have a bit of a hit and miss experience. The flat floor ensures that there is space for feet for the middle passenger but those on either side have limited space for their respective feet due to the rails on which the front seats sit. Leg room is rather limited and knee and head room is just about satisfactory. Three passengers sitting side-by-side on long journeys may be a bit of a cramped affair, also because there is no rear AC vent. Another miss is the lack of charging points for rear-seat passengers.

Space is a bit constrained on the back seats but Punch benefits from a high-seating position.

That said, it isn’t as if the rear section of the Punch is a deal-breaker for the family person. An armrest in the middle of the rear seats, high-seat position and good punchy speakers may still make this car a good proposition for small families.

Tata Punch: Safety

Tata Motors has been consistently producing some of the safest passenger vehicles in India. Over the last few years, the homegrown carmaker has shown the world that made-in-India cars can achieve a Global NCAP five-star safety rating and one among them is the Tata Punch. This boxy SUV-ish car has received a five-star for adult occupant protection, while for child occupant protection, it has received a four-star rating.

A major factor behind this safety rating is the build quality, as the automaker claims. Besides that, on the safety feature front, the Punch gets dual front airbags, ABS with EBD, automatic headlamps, reverse parking sensors, ISOFIX anchors, autonomous emergency braking lane departure warning, electronic stability control, blind-spot detection etc.

Tata Punch: Performance

Punch is made available only with a 1.2-litre Revotron petrol engine. In case you want a diesel option, I advise checking out other Tata Motor options or picking one from the rival camp. But if the petrol engine is fine, there’s much to look forward to right here.

Tata Punch technical specs 
  
Max Power86 Ps
Max Torque113 Nm
Engine1.2 Revotron petrol
Capacity, Cylinders11999 cc, 3 cylinders
Fuel tank capacity37 litres

The majority of my time with the Punch was with the AMT and that worked well because majority of my time was also spent within city limits – Delhi to Gurugram to Delhi. In all, I drove this variant (oops, persona) for around 100 kilometres on mostly well-laid city roads with the occasional broken patches.

Tata Punch first drive review

Punch is relatively stable at high speeds and maintains straight lines with poise.

Latest Cars Update

The key takeaway from the drive that I had was that the AMT, on expected lines, is a bit slow to take off. It has a familiar reluctance till around the 1,500 RPM mark and there the so-called rubber-band effect is very, very omnipresent. Any sudden plans for overtaking ought not to be sudden and will have to be well thought out before being executed. But once speed does build up and around the 1800 RPM mark, the Punch does justice to its name.

If you are primarily driving within city limits, the Punch with AMT ought to be a good choice as long as you aren’t an authentic driving enthusiast. If you are, try the Punch with a manual gearbox.

Cruising past around 60 KMPH and the Punch comes into its element. Its compact dimensions meant that weaving in and out of the extremely congested Delhi-Gurugram Expressway was an absolute delight. And because the steering set up is done right, it offers a good balance between heft and flexibility – a good combination to have for a car that may be doing duty in all kinds of traffic situations. There is also a traction-control mode on offer on the AMT which promises to get you out of slippery situations.

NVH levels are satisfactory although the groan of the engine does seep into the cabin when being excessively pushed. Keep it steady and the Punch manages to hint at a certain level of refinement that recent Tata cars have started putting in respective resumes off late.

But one thing Punch ought not to put on its resume is the control over body roll. Again, this is only when the vehicle is being pushed to perform but sharp turns at relatively high speeds means the driver and especially passengers at the rear will have to get a grip, literally speaking.

It was soon time for me to make the switch to the Punch with manual transmission and take my word for it – if you like the basic nuances of driving, you will love this car.

The Punch with MT is not just capable on regular roads but is quite capable on paths less taken and traveled.

Now I am not sure if it is because I spent most of my time with the AMT or if the manual transmission is really that good but having a control over Punch’s punch made me wish that I had had more than just 20 minutes with this particular option. The gear shifts are short, crisp and nearly precise. And remember the bit about planning over-taking moves? No need! Downshift, press the pedal and the Punch will execute commands nearly instantly.

The manual gearbox is also what is likely to excel on roads less than perfect. I got a chance to test its ‘off-road’ capabilities and while it was in a controlled test track, I was mighty impressed. Sure, Punch is no 4X4 but its high-seating position does help in giving a clear view of the surroundings – crucial in tricky terrain that one may encounter. With a 20.3 approach angle, 37.6 departure angle and 22.2 ramp-over angle, Punch was nifty throughout the obstacle course. And because it has a claimed water-wading capability of 370mm, this car may also be capable of navigating through submerged roads of Indian cities during monsoon. My advice though? Don’t try it unless you absolutely must have to.

Overall, it is great that Tata Motors has offered AMT on the Punch and it does have some serious SUV traits. But it is the manual transmission that would be my preferred choice and the fact that the vehicle can ably manage challenging terrain – to its best ability – is a big, big plus over rivals.

Tata Punch: Verdict

Tata Punch looks more like an SUV than many of the sub-compact SUVs out in the market. This alone could bring many to Tata showrooms to check out the vehicle. But beyond the superficiality of looks, it has a long list of core strengths that could work in its favour.

A high ground clearance and seating position means Punch is perhaps the most SUV-ish among all sub-compact SUVs on offer.

Punch may not have an absolutely exhaustive feature list or the most comfortable drive and ride experience in the segment it wants to compete in. And yet, it packs in the features that an owner is most likely to make use of – including iRA connected app support -and is an eager machine on the move. The ability on less than perfect roads don’t come as a cherry on the cake but is a large and delicious part of the cake itself.

I expect Tata Motors to price the Punch very, very aggressively and assuming this happens, the SUV will surely be a very, very compelling option for buyers inclined towards this body type without having to break bank.

First Published Date: 09 Oct 2021, 08:58 AM IST



Source link

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच, मारुति फ्रोंक्स: कीमत, फीचर्स और स्पेक्स की तुलना

हुंडई मोटर ने अपने एसयूवी पोर्टफोलियो – छोटे, या माइक्रो-एसयूवी सेगमेंट में एक महत्वपूर्ण अंतर को भरने के प्रयास में इस सप्ताह भारत में एक्सटर लॉन्च किया है। टाटा मोटर्स और मारुति सुजुकी जैसे प्रतिद्वंद्वियों ने पहले ही पंच और फ्रोंक्स लॉन्च कर दिए हैं जो बजट के प्रति जागरूक खरीदारों को लक्षित करने के लिए संबंधित कार निर्माता की सबसे छोटी एसयूवी हैं। हुंडई के लिए, यह एक नया डोमेन है, जिसे एक्सटर आकर्षक मूल्य निर्धारण और ढेर सारी सुविधाओं के साथ बाधित करने का वादा करता है। यदि आप असमंजस में हैं कि आपको इनमें से कौन सी एसयूवी चुननी चाहिए, तो यहां कीमतों, सुविधाओं और अन्य विवरणों की त्वरित तुलना दी गई है।

भारत में छोटी एसयूवी की लड़ाई में हुंडई एक्सटर (बीच में) टाटा पंच (बाएं) और मारुति सुजुकी फ्रोंक्स (दाएं) जैसे प्रतिद्वंद्वियों से मुकाबला करेगी।

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच बनाम मारुति फ्रोंक्स: स्पेक्स की तुलना

आकार के मामले में, एक्सटर पंच से थोड़ा छोटा है, हालांकि लंबे व्हीलबेस के साथ यह थोड़ा लंबा है। इसके अलावा, एक्सटर में 391 लीटर का बूट स्पेस है, जो इस सेगमेंट में सबसे बड़ा है। पंच 366 लीटर बूट स्पेस के साथ आता है जबकि फ्रोंक्स लगभग 308 लीटर प्रदान करता है। फ्रोंक्स 3,995 मिमी की लंबाई के साथ श्रेणी में सबसे बड़ी एसयूवी है, जो एक्सटर से 175 मिमी अधिक लंबी है। हालाँकि, जब इसकी 1,631 मिमी ऊँचाई की बात आती है तो एक्सटर स्कोर करता है, जो फ्रोंक्स से 81 मिमी अधिक है।

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच बनाम मारुति फ्रोंक्स: सीएनजी संस्करण

हुंडई इस विशेष सेगमेंट में एसयूवी लॉन्च करने वाली पहली कार निर्माता है जो सीएनजी संस्करण में भी पेश की गई है। एक्सटर सीएनजी शुरुआती कीमत के साथ दो वेरिएंट में उपलब्ध होगी 8.24 लाख (एक्स-शोरूम) और तक जाती है 8.97 लाख (एक्स-शोरूम)। इस सेगमेंट में अभी तक कोई भी अन्य प्रतिद्वंद्वी अपनी एसयूवी का सीएनजी संस्करण पेश नहीं करता है जो एक्सटर को प्रथम-प्रस्तावक लाभ के साथ पेश कर सके।

उम्मीद है कि टाटा मोटर्स जल्द ही सीएनजी के साथ पंच एसयूवी लॉन्च करेगी। कार निर्माता ने इस साल जनवरी में ऑटो एक्सपो 2023 में ट्विन-सिलेंडर तकनीक के साथ पंच सीएनजी मॉडल का प्रदर्शन किया था। मारुति सुजुकी फ्रोंक्स, जो लोकप्रिय हैचबैक पर आधारित है बैलेनो, अभी तक सीएनजी किट के साथ पेश नहीं किया गया है। हालाँकि, स्वच्छ कारों के विकल्प के रूप में मारुति के सीएनजी प्रोत्साहन को देखते हुए, उम्मीद है कि फ्रोंक्स को जल्द ही सीएनजी संस्करण मिलेगा।

देखें: Hyundai Exter SUV भारत में लॉन्च: पहली नज़र

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच बनाम मारुति फ्रोंक्स: इंजन और प्रदर्शन की तुलना

Hyundai Exter SUV को दो इंजन विकल्पों के साथ पेश करती है। इनमें सीएनजी संस्करणों के लिए द्वि-ईंधन इकाई के साथ 1.2-लीटर पेट्रोल इंजन शामिल है। नैचुरली एस्पिरेटेड मोटर या तो मैनुअल या एएमटी गियरबॉक्स यूनिट के साथ आती है। एसयूवी 83 एचपी का उत्पादन कर सकती है और एमटी और एएमटी दोनों वेरिएंट में 113.8 एनएम का टॉर्क प्रदान करती है। सीएनजी वर्जन में पावर 68 bhp और टॉर्क 95.2 Nm है।

दोनों मुक्का और फ्रोंक्स इन्हें 1.2-लीटर पेट्रोल इंजन के साथ भी पेश किया गया है। मारुति 1.0-लीटर टर्बोजेट पेट्रोल यूनिट भी पेश करती है। जहां पंच को मैनुअल और एएमटी गियरबॉक्स मिलता है, वहीं मारुति अन्य दो विकल्पों के अलावा फ्रोंक्स के साथ 6-स्पीड टॉर्क कनवर्टर ट्रांसमिशन यूनिट प्रदान करती है। पावर की बात करें तो पंच 85 hp की पावर और 113 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। फ्रोंक्स वेरिएंट के आधार पर 90 एचपी से 100 एचपी की पावर और 113 एनएम से 147.6 एनएम का टॉर्क जेनरेट करता है।

जहां तक ​​ईंधन दक्षता का सवाल है, हुंडई का कहना है कि एक्सटर 19.2 किमी प्रति लीटर और 19.4 किमी प्रति लीटर के बीच ईंधन दक्षता प्रदान कर सकता है। इसकी तुलना में, फ्रोंक्स 20.01 किमी प्रति लीटर और 22.89 किमी प्रति लीटर के बीच माइलेज प्रदान करता है और पंच 18.80 किमी प्रति लीटर और 20.09 किमी प्रति लीटर के बीच प्रदान करता है।

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच बनाम मारुति फ्रोंक्स: फीचर्स की तुलना

हुंडई ने इसे खरीदारों के लिए और अधिक आकर्षक बनाने के लिए एक्सटर में कई सेगमेंट-फर्स्ट फीचर्स शामिल किए हैं। एक आवाज-नियंत्रित इलेक्ट्रिक सनरूफ, एक डुअल डैश-कैम, पैडल शिफ्टर्स और वायरलेस चार्जर से लेकर मानक के रूप में छह एयरबैग, टायर-प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम जैसी सुरक्षा सुविधाओं तक – एक्सटर लगभग हर उस सुविधा को पूरा करता है जिसकी एक कार में उम्मीद की जा सकती है।

मारुति फ्रोंक्स भी पीछे नहीं है। यह 360-डिग्री कैमरा और अन्य सुविधाओं के अलावा सेगमेंट-फर्स्ट हेड-अप डिस्प्ले भी प्रदान करता है। हालाँकि, पंच एक छोटी इंफोटेनमेंट स्क्रीन, सेमी-डिजिटल ड्राइवर डिस्प्ले और अन्य सुविधाओं के साथ बिल्कुल अलग है।

देखें: मारुति सुजुकी फ्रोंक्स एसयूवी: पहली ड्राइव समीक्षा

हुंडई एक्सटर बनाम टाटा पंच बनाम मारुति फ्रोंक्स: कीमतों की तुलना

हुंडई मोटर एक्सटर एसयूवी को पांच व्यापक ट्रिम्स में पेश कर रही है, जिसमें 11 वेरिएंट शामिल हैं। S और SX ट्रिम्स को तीन-तीन वेरिएंट मिलते हैं, जिनमें एक CNG वेरिएंट भी शामिल है। टॉप-एंड SX(O) और SX(O) कनेक्ट वेरिएंट केवल पेट्रोल संस्करणों में पेश किए जाते हैं। बेस वैरिएंट EX की कीमत पर आता है 5.99 लाख (प्रारंभिक, एक्स-शोरूम)। केवल पेट्रोल एस और एसएक्स वेरिएंट की कीमत के बीच है 7.27 लाख और 8.68 लाख (एक्स-शोरूम)। टॉप-एंड वेरिएंट की कीमतें सबसे ऊपर हैं 10 लाख (एक्स-शोरूम)।

इसकी तुलना में, टाटा पंच एंट्री-लेवल वेरिएंट की कीमत में एक्सटर से मेल खाता है 5.99 लाख (एक्स-शोरूम)। एसयूवी के ऑटोमैटिक वेरिएंट की कीमत जबकि टॉप-एंड वेरिएंट की कीमत 7.49 लाख (एक्स-शोरूम) है 9.51 लाख (एक्स-शोरूम)। मारुति फ्रोंक्स, तीनों में सबसे महंगी है, इसकी शुरुआती कीमत 7.47 लाख रुपये है और यह 7.47 लाख रुपये तक जाती है। 13.14 लाख (एक्स-शोरूम)।

प्रथम प्रकाशन तिथि: 12 जुलाई 2023, 10:53 पूर्वाह्न IST

Source link

डेनियल रिकियार्डो की F1 में वापसी; अल्फ़ाटौरी में निक डी व्रीज़ की जगह लेंगे

Daniel Ricciardo returns to F1: will replace Nick de Vries at AlphaTauri

इस वर्ष अब तक डी व्रीज़ एक भी अंक हासिल करने में विफल रहने के कारण, अल्फ़ाटौरी ने हंगरी से उनके प्रतिस्थापन के रूप में रिकियार्डो की घोषणा की है।

डेनियल रिकियार्डो आगामी हंगेरियन जीपी में अपनी F1 वापसी करेंगे। हालिया अटकलों की पुष्टि करते हुए, अल्फ़ाटौरी ने घोषणा की है कि वह शेष सीज़न के लिए टीम में निक डी व्रीज़ की जगह लेंगे।

  • अल्फाटौरी के साथ 10 रेसों के बाद निक डी व्रीस को बाहर कर दिया गया
  • रिकियार्डो अपनी मैकलेरन ड्राइव खोने के बाद F1 में लौट रहे हैं

रिकार्डो F1 पर लौट आया

यह खबर तब आई जब रिकार्डो ने अंततः सिल्वरस्टोन में पिरेली टायर परीक्षण के भाग के रूप में 2023 RB19 को चलाया। ऑस्ट्रेलियाई ड्राइवर पिछले साल अपनी मैकलेरन ड्राइव खोने के बाद पूर्णकालिक F1 वापसी करना चाह रहा है। जबकि ऐसी अटकलें थीं कि वह रेड बुल में सर्जियो पेरेज़ की जगह ले सकते हैं, सहयोगी टीम अल्फ़ाटौरी ने अब पुष्टि की है कि वह उस टीम में लौटेंगे जिसके लिए उन्होंने 2012-2013 में (जब टीम को टोरो रोसो कहा जाता था) दौड़ लगाई थी।

अल्फाटौरी टीम के प्रिंसिपल फ्रांज टोस्ट ने कहा, “मैं डेनियल का टीम में वापस स्वागत करते हुए बहुत खुश हूं।” “उनके ड्राइविंग कौशल के बारे में कोई संदेह नहीं है, और वह हम में से कई लोगों को पहले से ही जानते हैं, इसलिए उनका एकीकरण आसान और सीधा होगा। टीम को उनके अनुभव से भी काफी फायदा होगा, क्योंकि वह आठ बार फॉर्मूला 1 ग्रां प्री विजेता हैं। मैं स्कुडेरिया अल्फ़ाटौरी के साथ अपने समय के दौरान निक को उनके बहुमूल्य योगदान के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।

formula 1

अल्फ़ाटौरी ने डी व्रीज़ को कुल्हाड़ी मार दी

इसका मतलब यह भी है कि इस सीज़न में सिर्फ 10 रेस के बाद निक डी व्रीज़ को बाहर कर दिया गया है। पूर्व फॉर्मूला ई और एफ2 चैंपियन ने उनसे प्रभावित किया विलियम्स के लिए एकमुश्त ड्राइव पिछले साल, मोंज़ा में नौवें स्थान का दावा किया। हालाँकि, 28 वर्षीय खिलाड़ी के लिए F1 में पहला पूर्ण सीज़न कठिन रहा है।

अल्फ़ाटौरी खुद को स्टैंडिंग में सबसे नीचे पाता है और डी व्रीज़ पहले 10 रेस में कोई भी अंक हासिल करने में विफल रहे। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 12वां स्थान था मोनाको जीपी.

यह भी देखें:

वेरस्टैपेन ने ब्रिटिश जीपी जीता; मैक्लारेन पोडियम पर वापस

2024 एफ1 कैलेंडर अधिक क्षेत्रीयकरण के साथ सामने आया

Hindi Motivational Quotes

Source link

हुंडई एक्सटर की डिलीवरी आज से शुरू हो रही है। यह छोटी एसयूवी क्यों हो सकती है पटाखा?

Hyundai Exter SUV की डिलीवरी आज – मंगलवार, 11 जुलाई से शुरू हो गई है – कंपनी के अधिकारियों ने पुष्टि की है कि एक दिन पहले लॉन्च किए गए मॉडल के लिए 10,000 से अधिक बुकिंग प्राप्त हुई हैं। Hyundai Exter की बुकिंग इस साल की शुरुआत में शुरू कर दी गई थी और कार की कीमत शुरू हो गई है 5.99 लाख (एक्स-शोरूम, प्रारंभिक)।

ह्यूडनई एक्सटर की कीमत ₹5.99 लाख से ₹9.99 लाख के बीच है। ये कीमतें शुरुआती और एक्स-शोरूम हैं।

एक्सटर अब देश में हुंडई की सबसे छोटी और सबसे किफायती एसयूवी है। कंपनी जैसी एसयूवी भी पेश करती है कार्यक्रम का स्थान, क्रेटा और टक्सन यहाँ। लेकिन एक्सटर में वास्तविक वॉल्यूम ड्राइवर बनने की क्षमता है क्योंकि न केवल कीमत काफी आकर्षक है बल्कि वाहन सुविधाओं से भरपूर है और कार खरीदने वाले युवा दर्शकों को लक्षित कर रहा है।

हुंडई एक्सटर का सीधा निशाना टाटा पंच पर है, लेकिन यह मारुति सुजुकी फ्रोंक्स और इग्निस को भी टक्कर देगी। कोरियाई लोगों ने लंबे समय से अपनी एसयूवी साख को रेखांकित किया है, लेकिन अब तक वे एक मजबूत प्रस्ताव से चूक रहे थे 10 लाख मूल्य वर्ग।

देखें: Hyundai Exter SUV भारत में लॉन्च: पहली नज़र

हुंडई एक्सटर: इंजन और ट्रांसमिशन

हुंडई एक्सटर के हुड के नीचे 1.2-लीटर पेट्रोल इंजन मिलता है और इसे मैनुअल ट्रांसमिशन बॉक्स के साथ-साथ एएमटी यूनिट से जोड़ा जाता है। कंपनी-फिटेड सीएनजी चुनने का विकल्प भी है जो एमटी से जुड़ा है।

केवल पेट्रोल मॉडल 81.86 बीएचपी और 113.8 एनएम का टॉर्क प्रदान करता है, जबकि सीएनजी मोड में, एक्सटर 68 बीएचपी और 95.2 एनएम का टॉर्क प्रदान करता है।

हुंडई का दावा है कि केवल पेट्रोल-एक्सटर का माइलेज 19.4 (MT) और 19.2 kmpl (AMT) है, जबकि Exter का CNG माइलेज 27.1 किलोमीटर प्रति किलो है।

हुंडई एक्सटर: रंग विकल्प

हुंडई एक्सटर रंग विकल्पों में बिल्कुल नए रेंजर खाकी और कॉस्मिक ब्लू शेड शामिल हैं। एक्सटर एसयूवी के अन्य रंग ब्लैक रूफ के साथ व्हाइट, स्टारी नाइट, फियरी रेड, एटलस व्हाइट, टाइटन ग्रे और ब्लैक रूफ के साथ कॉस्मिक ब्लू हैं।

हुंडई एक्सटर: वेरिएंट

हुंडई एक्सटर सात व्यापक ट्रिम्स में आती है। इनमें EX, EX(O), SX, SX(O), SX(O) कनेक्ट शामिल हैं।

हुंडई एक्सटर: विशेषताएं

हुंडई की एक्सटर अपने सभी वेरिएंट में मानक के रूप में छह एयरबैग के साथ आती है। इसके अलावा – और वैरिएंट के आधार पर – कई अन्य सुरक्षा हाइलाइट्स भी हैं। जहां तक ​​सुविधा-आधारित सुविधाओं का सवाल है, एक्सटर दो-तरफा डैशकैम, आवाज-नियंत्रित सनरूफ, आठ इंच की मुख्य इंफोटेनमेंट स्क्रीन और ऑल-डिजिटल ड्राइवर डिस्प्ले सहित अन्य सुविधाओं से सुसज्जित है।

प्रथम प्रकाशन तिथि: 11 जुलाई 2023, 15:16 अपराह्न IST

Source link

मारुति सुजुकी भारत में ADAS का परीक्षण कर रही है, जो पहले से ही हुंडई, होंडा, महिंद्रा, टाटा कारों, एसयूवी में पेश किया गया है

Maruti Suzuki is testing ADAS in India: Which is already offered in Hyundai, Honda, Mahindra, Tata Cars, SUV



मारुति सुजुकी के सीटीओ सीवी रमन का कहना है कि मारुति एडीएएस के उपभोक्ता मूल्य प्रस्ताव का मूल्यांकन कर रही है।

भारत में पेश किए जा रहे नए यात्री वाहनों में उन्नत ड्राइवर सहायता प्रणालियों या एडीएएस सुविधाओं की बढ़ती पहुंच के साथ, मारुति सुजुकीजिसने अभी तक अपने किसी भी उत्पाद में सुरक्षा तकनीक की पेशकश नहीं की है, का कहना है कि वह हमारी सड़कों पर प्रौद्योगिकी की योग्यता का गहराई से मूल्यांकन कर रही है, और एक रोडमैप तैयार कर रही है।

एमएसआईएल के मुख्य तकनीकी अधिकारी सीवी रमन के अनुसार, “हालांकि आज हमारे वाहनों में एडीएएस की पेशकश करना संभव है, लेकिन कई कार्यात्मकताओं का उपयोग शहर में नहीं किया जा सकता है, जबकि कुछ का लाभ केवल राजमार्ग पर ही लिया जा सकता है। इसलिए, हम इस पर विचार कर रहे हैं।” ADAS के लाभकारी उपयोग के संबंध में अंतिम ग्राहक के लिए मूल्य प्रस्ताव।”

मारुति सुजुकी इंडिया, जिसके पास है का शुभारंभ किया इसकी प्रमुख पेशकश – इनविक्टो – प्रीमियम एमपीवी में एडीएएस की पेशकश नहीं करने का विकल्प चुना है, जो पर आधारित है टोयोटा इनोवा हाइक्रॉस यह अपने टॉप-स्पेक ट्रिम में एडीएएस सुविधाओं जैसे लेन-कीप असिस्ट, एडेप्टिव क्रूज़ कंट्रोल और क्रॉस-ट्रैफिक अलर्ट से सुसज्जित है। कंपनी अपने प्रमुख प्रतिद्वंदियों से भी पीछे है हुंडई मोटर इंडिया और होंडा कार्स इंडियाजिसने अपनी मध्यम आकार की सेडान के नवीनतम पुनरावृत्तियों में ADAS पेश किया है वेरना और शहरक्रमशः, जो प्रतिस्पर्धा करते हैं मारुति सुजुकी सियाज़.

“एडीएएस भारत के लिए इस मायने में प्रासंगिक होना चाहिए कि यह हमारी सड़कों पर दुर्घटनाओं को रोकने या कम करने में फायदेमंद होना चाहिए। इसलिए, हम अपने बाजार के लिए तकनीकी प्रासंगिकता के आधार पर एक रोडमैप का मूल्यांकन और रूपरेखा तैयार कर रहे हैं, ”रमन ने कहा।

“जबकि प्रौद्योगिकी सुजुकी (मोटर कॉर्प) के पास उपलब्ध है, यह भारतीय परिस्थितियों में प्रौद्योगिकी की योग्यता है, साथ ही ग्राहक के लिए मूल्य प्रस्ताव है, जिसे हम देख रहे हैं। हम भारत में ADAS का बड़े पैमाने पर परीक्षण कर रहे हैं,” उन्होंने पुष्टि की।

सड़क सुरक्षा और ड्राइविंग सुविधा बढ़ाने की आवश्यकता के साथ भारतीय ऑटोमोटिव उद्योग ADAS की मांग में उल्लेखनीय वृद्धि देख रहा है। हालाँकि, विकसित अर्थव्यवस्थाओं के विपरीत, देश को खराब सड़क बुनियादी ढांचे की एक महत्वपूर्ण चुनौती का सामना करना पड़ता है जैसे कि मानकीकृत साइनेज और लेन चिह्नों की कमी, सेंसर-आधारित सुरक्षा प्रौद्योगिकी के विश्वसनीय कामकाज के लिए आवश्यक शर्तें।

इसलिए, भारतीय बाजार के लिए एडीएएस विकसित करने के लिए इन अनूठी सड़क बुनियादी ढांचे की चुनौतियों को अपनाने की आवश्यकता है। इसमें विविध सड़क स्थितियों, अप्रत्याशित यातायात पैटर्न और लेन चिह्नों की कमी को संबोधित करना शामिल है। ड्राइविंग परिवेश में विभिन्न परिदृश्यों को संभालने और ड्राइवरों को सटीक और विश्वसनीय सहायता प्रदान करने के लिए एडीएएस तकनीक को पर्याप्त मजबूत होने की आवश्यकता है।

ऑटोमोटिव टेस्ट सिस्टम्स (एटीएस) के प्रबंध निदेशक, रामनाथन श्रीनिवासन के अनुसार, “भारत में एडीएएस तकनीक को भारतीय परिस्थितियों के अनुरूप बनाया जाना चाहिए और भारतीय बाजार के लिए एडीएएस विकसित करने के लिए देश की अनूठी सड़क बुनियादी ढांचे की चुनौतियों को अपनाने की आवश्यकता है। एडीएएस परीक्षण और सत्यापन बेहद जटिल है, और ट्रैक पर या सिमुलेशन में लगभग 200,000 परिदृश्यों के मूल्यांकन की आवश्यकता होती है।

भारत में ADAS की पैठ का बढ़ता स्तर

दूसरी ओर, अग्रणी यात्री वाहन निर्माता जैसे टाटा मोटर्स, महिंद्राहुंडई, होंडा, साथ ही एमजी मोटर इंडियाने देश में बिक्री के लिए अपने कुछ लोकप्रिय मॉडलों में एडीएएस प्रौद्योगिकियों की पेशकश शुरू कर दी है। महिंद्रा XUV700 उदाहरण के लिए, एसयूवी में रडार- और कैमरा-आधारित एडीएएस सुविधाएं जैसे लेन-कीप असिस्ट, एडाप्टिव क्रूज़ कंट्रोल और ब्लाइंड-स्पॉट डिटेक्शन शामिल हैं।

कोरियाई कार निर्माता हुंडई भी ADAS सुविधाओं के लिए मजबूत उपभोक्ता आकर्षण देख रही है, और दावा करती है कि उसकी नई लॉन्च की गई छठी पीढ़ी की वर्ना सेडान के ADAS-सुसज्जित वेरिएंट मॉडल की कुल बिक्री में 15 प्रतिशत तक का योगदान दे रहे हैं। जर्मन प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ता कॉन्टिनेंटल, जो विश्व स्तर पर अपने ग्राहकों को एडीएएस की आपूर्ति करता है, अपने मॉड्यूलर समाधानों के लिए भारतीय बाजार से मजबूत मांग देख रहा है, जो कई प्लेटफार्मों पर एक मुख्य प्रौद्योगिकी को लागू करके और पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं का लाभ उठाकर ओईएम लागत को कम कर सकता है।

हमारे सहयोगी प्रकाशन ऑटोकार प्रोफेशनल के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में, एडीएएस बिजनेस यूनिट, कॉन्टिनेंटल के प्रमुख, फ्रांज पेट्ज़निक ने कहा, “हमारा लक्ष्य एक ऐसा समाधान बनाना है जो ओईएम के लिए अंतिम छोर तक अनुकूलित नहीं हो सकता है, लेकिन इसे अनुकूलित करना आसान है एकाधिक कार लाइनें, और लागत प्रभावी साबित होती हैं। यही वह चीज़ है जिसे हमें भारत के लिए लक्षित करने की आवश्यकता है, और हम इन कार्यों को भारत में लागत प्रभावी एप्लिकेशन मोड में लाने का प्रयास कर रहे हैं।

पेट्ज़निक ने कहा था, “एडीएएस फीचर्स भारतीय बाजार में तेजी से एक चलन बन रहा है और अगले तीन वर्षों में इसके और अधिक मुख्यधारा बनने की संभावना है।”

Motivational Quotes Here
Source link

फोर्ड ब्रोंको एसयूवी के साथ स्टैंड-अप ड्राइविंग की योजना बना रही है। अधिक जानते हैं

Ford is planning stand-up driving with the Bronco SUV:

फोर्ड ने कुछ अनूठे विचारों के लिए पेटेंट दायर किया है, जिनमें से एक स्टैंड-अप ड्राइविंग है। पेटेंट छवि से पता चलता है कि फोर्ड एक ड्राइवर के खड़े होकर कार चलाने के विचार पर विचार कर रहा है, जो कि वर्तमान ड्राइविंग मुद्रा की तुलना में पूरी तरह से अपरंपरागत है, जिसके लिए ड्राइवर को सीट पर बैठकर वाहन चलाने की आवश्यकता होती है। इस अनूठे विचार के लिए पेटेंट दाखिल करने के अलावा, फोर्ड ने ड्राइव-इन मूवीज़, गलविंग दरवाजे और कारों के लिए विचार भी प्रकाशित किए हैं जो खुद को पुनः प्राप्त करते हैं।

द्वारा: एचटी ऑटो डेस्क
| को अपडेट किया: 11 जुलाई 2023, दोपहर 12:36 बजे

फोर्ड ने कुछ अनूठे विचारों के लिए पेटेंट दायर किया है, जिसमें स्टैंड-अप ड्राइविंग और गुलविंग दरवाजे शामिल हैं। (छवि: यूएसपीटीओ)

पेटेंट छवि एक नए युग को दर्शाती है पायाब सॉफ्ट टॉप के साथ ब्रोंको एसयूवी। हालांकि इससे भविष्य में फोर्ड ब्रोंको एसयूवी को इस तरह की अनूठी सुविधा मिलने की अटकलें तेज हो गई हैं, लेकिन यह याद रखना चाहिए कि पेटेंट फाइलिंग दूर-दूर तक किसी विचार के फलीभूत होने की गारंटी नहीं है, खासकर ऑटोमोटिव जगत में। कार्बज़ की रिपोर्ट है कि पेटेंट 2021 में यूएस पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय (यूएसपीटीओ) में दायर किए गए थे, लेकिन पिछले हफ्ते प्रकाशित हुए हैं और वैश्विक ऑटोमोटिव बिरादरी का ध्यान आकर्षित किया है।

ये भी पढ़ें: फोर्ड के सीईओ ने टेस्ला साइबरट्रक की आलोचना की। यहाँ उन्होंने क्या कहा

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि स्टैंड-अप ड्राइविंग विचार के मामले में कार्यक्षमता दोगुनी है। स्पष्ट उपयोग स्टीयरिंग व्हील के पीछे निर्दिष्ट ड्राइवर की सीट पर बैठे बिना एसयूवी को नियंत्रित करना है। पेटेंट छवि में एक खड़े होने की स्थिति को दर्शाया गया है, जिसमें एक व्यक्ति विंडशील्ड फ्रेम पर सेंसर के माध्यम से ब्रोंको को नियंत्रित कर रहा है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पेटेंट में घुटनों के बल बैठने और एक तरफ झुकने की बात कही गई है। इसलिए सिद्धांत रूप में, नियंत्रण कई स्थानों पर रखे जा सकते हैं जहां ड्राइवर को निकटतम परिवेश की बेहतर दृश्यता हो सकती है। आक्रामक ऑफ-रोडिंग तकनीकों से परिचित कोई भी व्यक्ति ड्राइविंग करते समय दृश्यता और इलाके को सटीक रूप से नेविगेट करने के महत्व को जानता है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यदि कोई स्पॉटर उपलब्ध नहीं है, तो यह सिस्टम ड्राइवर को मुश्किल बाधाओं से निपटने में मदद कर सकता है।

प्रथम प्रकाशन तिथि: 11 जुलाई 2023, 12:36 अपराह्न IST

Hindi Motivational Video

Source link

वोल्वो XC60 की कीमत, मानसून ड्राइविंग टिप्स, बरसात के मौसम के लिए आवश्यक चीज़ें

Volvo XC60 Price, Monsoon Driving Tips, Rainy Season Essentials:

मानसून आपकी कार पर विशेष रूप से कठिन हो सकता है। यहां सुरक्षित और स्मार्ट ड्राइविंग के लिए एक त्वरित मार्गदर्शिका दी गई है।

11 जुलाई 2023 03:36:00 अपराह्न पर प्रकाशित

वोल्वो मानसून ड्राइविंग टिप्स

इसमें थोड़ी देरी हो सकती है, लेकिन भारत की जीवन रेखा, दक्षिण पश्चिम मानसून, अब, अच्छी तरह से, हम पर बरस रहा है। और जबकि यह आपके लिए कई खुशियाँ लाएगा – गर्मी और उमस से राहत, पहाड़ों पर लंबी, आरामदायक सप्ताहांत ड्राइव, और पकौड़े और चाय – बारिश आपकी कार के लिए कठिन हो सकती है। रूह कंपा देने वाले ट्रैफिक जाम और गड्ढेदार गड्ढों के अलावा, बारिश का मतलब गंदगी, कीचड़ और पानी भी है जो ऑटोमोबाइल पर चौतरफा हमला करता है। इसलिए, अपनी कार को गीले मौसम के साथ आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार करना महत्वपूर्ण है। बरसात की स्थितियाँ ड्राइविंग सुरक्षा और आपके वाहन की समग्र भलाई पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती हैं। अपनी कार की सुरक्षा के लिए कुछ सक्रिय कदम उठाने से एक सहज और सुरक्षित ड्राइविंग अनुभव सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है। इन एहतियाती उपायों को लागू करके, आप अपने वाहन के प्रदर्शन को बढ़ा सकते हैं, उसके घटकों की सुरक्षा कर सकते हैं और सड़क पर अपनी और दूसरों की सुरक्षा को प्राथमिकता दे सकते हैं।

सेवा जांच शेड्यूल करें

अपनी कार की प्री-मानसून सेवा जांच में भाग लेना, बरसात के मौसम के लिए उसकी तैयारी सुनिश्चित करने का एक शानदार तरीका है। प्री-मानसून सेवा के दौरान ध्यान केंद्रित करने के लिए यहां कुछ प्रमुख क्षेत्र दिए गए हैं।

  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे अच्छी स्थिति में हैं, सनरूफ और दरवाजों के आसपास रबर सील का निरीक्षण करें। भारी वर्षा के दौरान पानी के रिसाव को रोकने के लिए किसी भी क्षतिग्रस्त या घिसे हुए सील को बदलें।

गीली सड़कों पर उचित पकड़ के लिए टायर के चलने की पर्याप्त गहराई महत्वपूर्ण है।

  • गीली परिस्थितियों में वाहनों की रुकने की दूरी बढ़ जाती है, इसलिए अपने ब्रेकों का निरीक्षण करना और उन्हें शीर्ष रूप में रखना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, भारी बारिश में गाड़ी चलाते समय या बड़े गड्ढों में गाड़ी चलाने के बाद, ब्रेक को बीच-बीच में हल्के से थपथपाकर सुखा लें।
  • अपनी कार के अंदर पानी जमा होने और संभावित रिसाव को रोकने के लिए सनरूफ ड्रेन से किसी भी रुकावट को साफ़ करें।
  • इष्टतम प्रदर्शन सुनिश्चित करने के लिए अपनी कार के हीटिंग, वेंटिलेशन और एयर कंडीशनिंग (एचवीएसी) सिस्टम की जांच और सर्विस करवाएं। इससे खिड़कियाँ साफ़ रहेंगी और बरसात के मौसम में धुंध को रोकने में मदद मिलेगी।
  • गीली सड़कों पर उचित पकड़ के लिए टायर के चलने की पर्याप्त गहराई महत्वपूर्ण है। टायर के धागे पानी को संपर्क पैच से दूर ले जाते हैं और आपकी कार की पकड़ को बढ़ाते हैं। ट्रेड डेप्थ गेज का उपयोग करके ट्रेड की गहराई की जांच करें और अनुशंसित सीमा से अधिक घिसे हुए टायरों को बदलें। इन दिनों अधिकांश टायरों में ट्रेड-वियर संकेतक – खांचे के बीच छोटी रबर की पट्टियाँ – होती हैं जो समय के साथ पतली होने लगती हैं। यदि ट्रेड इंडिकेटर वास्तव में खराब हो रहा है, तो यह आपकी कार के टायर को बदलने का समय है।
  • बरसात की स्थिति में सुरक्षित ड्राइविंग के लिए इष्टतम पकड़ सुनिश्चित करने के लिए उचित टायर मुद्रास्फीति आवश्यक है। निर्माता के दिशानिर्देशों के अनुसार अनुशंसित टायर दबाव बनाए रखें।

संभावित पानी के रिसाव को रोकने के लिए सनरूफ और दरवाजों के चारों ओर रबर सील का अच्छी तरह से निरीक्षण करवाएं।

  • भारी बारिश के दौरान स्पष्ट दृश्यता बनाए रखने के लिए अच्छी स्थिति वाले वाइपर ब्लेड आवश्यक हैं। गर्मी वाइपर पर हानिकारक प्रभाव डाल सकती है, जिससे वे ख़राब हो सकते हैं। इससे पोंछना कम हो जाता है। बारिश ज़ोरों पर आने से पहले अपने विंडशील्ड वाइपर की स्थिति का निरीक्षण करें और घिसे-पिटे ब्लेड बदल दें। निस्संदेह, यही बात पिछले वाइपर के लिए भी लागू होती है। साथ ही, इष्टतम प्रदर्शन के लिए विंडशील्ड वॉशर तरल पदार्थ को टॉप अप करें।
  • कहने की जरूरत नहीं है कि आपकी कार की सभी लाइटें – हेडलाइट (हाई और लो बीम दोनों में), टेल-लाइट्स, ब्रेक लाइट्स और खतरे/संकेतक – का अच्छी स्थिति में रहना मौसम की परवाह किए बिना महत्वपूर्ण है। बारिश में, जब किसी को कम दृश्यता का सामना करना पड़ता है, तो ये दोगुना महत्वपूर्ण हो जाते हैं। मंदता या असंगतता का मतलब है कि आपको बल्बों का एक नया सेट प्राप्त करने की आवश्यकता है, और टिमटिमाती रोशनी कनेक्शन समस्या या कमजोर बैटरी का संकेत दे सकती है। महत्वपूर्ण बात यह है कि यदि आपकी हेडलाइट्स/टेल-लाइट्स की रोशनी की तीव्रता कम है तो उन्हें ठीक करवा लें या बदल लें।

होशियारी से गाड़ी चलाओ, सुरक्षित गाड़ी चलाओ

  • गीली सड़कें कर्षण को कम कर देती हैं, जिससे तुरंत रुकना सामान्य से अधिक कठिन हो जाता है। ब्रेकिंग दूरी बढ़ाने के लिए अपनी कार और सामने वाले वाहन के बीच बड़ा अंतर छोड़ें। इससे आपको प्रतिक्रिया करने के लिए अधिक समय और ब्रेक लगाने के लिए पर्याप्त जगह उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।

अपने ब्रेकों का निरीक्षण करना और उन्हें अच्छी स्थिति में रखना महत्वपूर्ण है।

  • ब्रेक लगाने और त्वरण में सावधानी बरतें। गीली सड़कों पर या किसी फिसलन वाली सतह पर फिसलने से बचने के लिए ब्रेक धीरे से लगाएं। पहिये के घूमने और कर्षण के नुकसान को रोकने के लिए धीरे-धीरे गति बढ़ाएँ।
  • बरसात के मौसम में अक्सर आपकी कार की विंडस्क्रीन और खिड़कियों पर कोहरा छा जाता है, जिससे दृश्यता कम हो जाती है। अपनी कार के डिफॉगर्स, फ्रंट और रियर विंडशील्ड वाइपर का उपयोग करें, और सुनिश्चित करें कि इष्टतम दृश्यता के लिए आपकी हेडलाइट्स चालू हैं।
  • खतरनाक लाइटों का प्रयोग सोच-समझकर करें। जब आपका वाहन किसी आपात स्थिति या खराबी के कारण सड़क के किनारे खड़ा हो तो खतरनाक रोशनी का उपयोग किया जाना चाहिए। गाड़ी चलाते समय खतरनाक रोशनी का उपयोग करने से बचें क्योंकि इससे अन्य ड्राइवर भ्रमित हो सकते हैं और उनके लिए आपकी गतिविधियों का आकलन करना मुश्किल हो सकता है।

ब्रेकिंग दूरी बढ़ाने के लिए अपनी कार और सामने वाले वाहन के बीच बड़ा अंतर छोड़ें।

  • एक्वाप्लानिंग रोकें. एक्वाप्लानिंग गीली सड़कों पर तब होती है जब आपकी कार के टायर सतही पानी के कारण सड़क से संपर्क खो देते हैं। संपर्क की इस कमी के कारण संभावित रूप से आप कार पर नियंत्रण खो सकते हैं। इससे बचने के लिए, मध्यम गति से गाड़ी चलाएं, अचानक पैंतरेबाजी से बचें, जोर से ब्रेक न मारें और सुनिश्चित करें कि आपके टायरों में पर्याप्त गहराई हो और वे ठीक से फूले हुए हों। जबकि एबीएस जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स मदद करते हैं, सतर्क रहने और तेज गति से गाड़ी चलाने से बचने की सलाह दी जाती है।
  • खड़े पानी में गाड़ी चलाने से बचें क्योंकि गहराई और छिपे खतरों का अंदाजा लगाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। यदि आपको खड़े पानी के बीच गाड़ी चलानी है, तो इंजन रुकने या नियंत्रण खोने से बचने के लिए धीरे और सावधानी से आगे बढ़ें।
  • अपनी कार को पोखर या खड़े पानी में पार्क करना घातक साबित हो सकता है क्योंकि वे टूटे हुए बिजली के तारों जैसे खतरों को छिपा सकते हैं और जलमग्न बिजली स्रोतों से बिजली के झटके का खतरा हो सकता है।

एक्वाप्लानिंग को रोकने के लिए सावधान रहें और मध्यम गति से वाहन चलाएं।

  • बिजली के खंभों/पेड़ों के नीचे पार्किंग करने से बचें: भारी बारिश और तूफान के दौरान, शाखाओं या पेड़ों के गिरने का खतरा होता है, खासकर बिजली के खंभों के पास। क्षति से बचने के लिए अपनी कार को इन संभावित खतरों से दूर किसी सुरक्षित क्षेत्र में पार्क करें।
  • याद रखें, सड़क पर आपकी सुरक्षा और दूसरों की सुरक्षा आपकी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। रक्षात्मक रूप से ड्राइव करें, सतर्क रहें और मौजूदा मौसम की स्थिति के अनुसार अपनी ड्राइविंग शैली को अनुकूलित करें।

सही गियर ले जाएं

  • छाता: जब आप वाहन से बाहर हों तो बारिश से बचने के लिए अपनी कार में एक मजबूत और कॉम्पैक्ट छाता रखें। यह अप्रत्याशित बारिश के दौरान काम आएगा या जब आपको तुरंत रुकने की आवश्यकता होगी और आश्रय तक तत्काल पहुंच नहीं होगी।
  • रेनकोट: रेनकोट आपके मानसून गियर के लिए एक उत्कृष्ट अतिरिक्त है। जब आपको कार से बाहर निकलने की आवश्यकता होगी तो यह आपको सूखा रखेगा और यदि आपको सड़क किनारे किसी आपात स्थिति से निपटने या भारी बारिश में अपने वाहन की जांच करने की आवश्यकता हो तो यह विशेष रूप से उपयोगी हो सकता है।

बारिश के कारण ड्राइवरों के लिए दृश्यता कम हो जाती है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके वाइपर और हेडलाइट अच्छी स्थिति में हों।

  • टॉर्च: बरसात की स्थिति कभी-कभी बिजली कटौती या खराब दृश्यता का कारण बन सकती है, खासकर तूफान के दौरान। आपकी कार में एक विश्वसनीय टॉर्च होने से आपको अंधेरे में नेविगेट करने या अपने वाहन में किसी भी समस्या की जांच करने में मदद मिलेगी।
  • वाटरप्रूफ बैग या प्लास्टिक कवर: अपनी कार में वाटरप्रूफ बैग या कुछ प्लास्टिक कवर रखने पर विचार करें। वे लीक या भारी बारिश की स्थिति में महत्वपूर्ण दस्तावेज़ों, मोबाइल फोन और लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों या अन्य क़ीमती सामानों को भीगने से बचाने में मदद कर सकते हैं।
  • प्राथमिक चिकित्सा किट: अपनी कार में प्राथमिक चिकित्सा किट अच्छी तरह से रखना हमेशा एक अच्छा विचार है। सुनिश्चित करें कि इसमें पट्टियाँ, एंटीसेप्टिक समाधान, दर्द निवारक और कोई भी आवश्यक दवाएँ जैसी वस्तुएँ शामिल हों। मानसून के दौरान किसी भी छोटी चोट के मामले में, आप तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए तैयार रहेंगे।

यह भी देखें:

ब्रांडेड सामग्री: गर्मी को मात देना

कॉपीराइट (सी) ऑटोकार इंडिया। सर्वाधिकार सुरक्षित।

Source link

मारुति ग्रैंड विटारा की कीमत, जिम्नी विवरण, नेक्सा एसयूवी लाइन-अप

Maruti Grand Vitara Price:

नई एसयूवी वित्त वर्ष 2013 में भारत में 10 लाख रुपये से 20 लाख रुपये के एसयूवी सेगमेंट में मारुति को शीर्ष स्थान पर पहुंचाने में मदद करती हैं।

मारुति सुजुकी ने कहा है कि उसने वित्त वर्ष 2022-23 में 10 लाख रुपये से 20 लाख रुपये की वाहन श्रेणी में 19 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी हासिल की है, जिससे वह इस सेगमेंट में नंबर एक खिलाड़ी बन गई है। यह मारुति को अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वियों से आगे रखता है हुंडई इंडिया. कंपनी ने यह भी कहा कि उसकी प्रीमियम एसयूवी की अधिक मांग के कारण वित्त वर्ष 2024 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2023) में उसकी बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 22 प्रतिशत हो गई है।

  1. मारुति के पास वर्तमान में 10 लाख रुपये से कम श्रेणी में 61 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी है
  2. पिछले कुछ वर्षों में 10 लाख-20 लाख रुपये के सेगमेंट में बाजार हिस्सेदारी चौगुनी हो गई है
  3. FY23 में मारुति के नेक्सा आउटलेट्स पर 3.7 लाख यूनिट्स की बिक्री हुई

मारुति सुजुकी के पास 2 लाख से अधिक एसयूवी ऑर्डर लंबित हैं

यह ब्रांड परंपरागत रूप से छोटी कारों का विशेषज्ञ रहा है और 10 लाख रुपये से कम की श्रेणी में इसकी हिस्सेदारी 61 प्रतिशत से अधिक है। से इतर बोलते हुए इनविक्टो का लॉन्च पिछले सप्ताह की घटना, मारुति सुजुकी इंडिया में सेल्स एंड मार्केटिंग के कार्यकारी निदेशक शशांक श्रीवास्तव ने हमारे सहयोगी प्रकाशन को बताया ऑटोकार प्रोफेशनल के अनुसार, “मारुति सुजुकी जिस भी सेगमेंट में प्रवेश करती है, वह अपनी पहचान बनाने में सक्षम होती है, केवल उत्पादों के प्रकार और उपभोक्ता बदलते हैं। कंपनी भारतीय उपभोक्ताओं को अच्छी तरह से समझती है, और एक नए और नए ग्राहक आधार में सेंध लगाने में सक्षम है।” “

इनविक्टो के लिए – 25 लाख रुपये से 30 लाख रुपये के बीच की कीमत वाला वाहन – मारुति सुजुकी पिछले कुछ हफ्तों में 6,800 से अधिक इकाइयों की बुकिंग हासिल करने में सक्षम थी। कंपनी के पास 2 लाख से अधिक एसयूवी की ऑर्डर बुक है, जो मुख्य रूप से 10 लाख-20 लाख रुपये के दायरे में है। इस मूल्य खंड में इसकी बाजार हिस्सेदारी पिछले कुछ वर्षों में 4-5 प्रतिशत से बढ़कर 20-22 प्रतिशत हो गई है, और इसके पीछे बड़ा कारक इसकी नई एसयूवी और एमपीवी की रेंज है जो इसने 2018 से पेश की है। आश्चर्य की बात नहीं, मारुति सुज़ुकी पहले से ही तेजी से बढ़ते एसयूवी क्षेत्र में दूसरा सबसे बड़ा खिलाड़ी है, केवल कुछ सौ इकाइयों से पीछे महिंद्रा एंड महिंद्रा.

उच्च कीमत वाले वाहनों की ओर बदलाव को बढ़ावा देने वाले कई कारक

कमोडिटी की बढ़ती लागत, सड़क कर, बीमा भुगतान और बढ़ी हुई सुविधाओं के कारण ऊंची कीमत वाली कारों की ओर बदलाव आया है, और इसलिए भारत में बेची जाने वाली कारों की औसत कीमत लगभग 6 रुपये से बढ़कर 9 लाख-10 लाख रुपये हो गई है। सिर्फ तीन से पांच साल पहले लाख-सात लाख।

“यह एक भ्रांति या मिथक है कि मारुति प्रीमियम कारें या एसयूवी नहीं बेच सकती है या अपग्रेड करने वाले अन्य ब्रांडों को पसंद करते हैं। हमारा प्रीमियम चैनल नेक्सा दूसरा सबसे बड़ा ऑटोमोटिव रिटेलर बनने के लिए तैयार है। [after Arena]. वित्त वर्ष 2013 में 3.7 लाख इकाइयों के आधार पर, हम अब तक 70 प्रतिशत से अधिक बढ़ चुके हैं और नेक्सा से बिक्री लगभग पांच लाख इकाइयों को पार करने की संभावना है, ”श्रीवास्तव ने रेखांकित किया।

20 लाख रुपये से 30 लाख रुपये के सेगमेंट के बारे में जहां इनविक्टो एमपीवी स्थित है, श्रीवास्तव ने कहा कि यह सेगमेंट भारतीय यात्री वाहन बाजार का 5-8 प्रतिशत हिस्सा है और इनमें से अधिकांश ग्राहक पहली बार कार खरीदने वाले नहीं हैं। स्वाभाविक रूप से, उच्च कीमत को देखते हुए, इस सेगमेंट में पहली बार कार खरीदने वालों की हिस्सेदारी बहुत कम है, लेकिन प्रतिस्थापन खरीदारों का एक बड़ा हिस्सा है।

भारत में 2020 से 2027 के बीच लगभग 4-5 मिलियन एसयूवी बेचे जाने की संभावना है, और विशेषज्ञों का मानना ​​​​है कि 20 लाख रुपये से 30 लाख रुपये का यह उन्नत स्थान वाहन निर्माताओं के लिए अगले पांच वर्षों में लड़ने के लिए नया युद्धक्षेत्र बन जाएगा। साल।

यह भी देखें:

मारुति सुजुकी eVX EV SUV का ग्लोबल डेब्यू अक्टूबर 2024 तक होगा

मारुति सुजुकी इग्निस, बलेनो और सियाज पर 64,000 रुपये तक की छूट

Source link

पिनिनफेरिना बतिस्ता एडिज़ियोन नीनो फ़रीना ईवी पावरट्रेन, प्रदर्शन, डिज़ाइन, विवरण

Pininfarina Battista Edizione Nino Farina EV powertrain, performance, design, details:

 

विशेष संस्करण बतिस्ता, जिसकी कीमत €3.1 मिलियन है, दुनिया के पहले फॉर्मूला 1 चैंपियन, नीनो फ़रीना को एक श्रद्धांजलि है।

पिनिनफेरिना ने एक विशेष संस्करण बतिस्ता – एडिज़ियोन नीनो फ़रीना का अनावरण किया है। 2020 में जारी बैटिस्टा एनिवर्सारियो के बाद, यह बैटिस्टा पोर्टफोलियो में दूसरा विशेष संस्करण है ब्रांड के 90 का जश्न मनाएंवां सालगिरह. नीनो फ़रीना संस्करण की कीमत €3.1 मिलियन (28 करोड़ रुपये से अधिक) है और, एनिवर्सारियो की तरह, यह केवल पाँच इकाइयों तक सीमित है।

 

एडिज़ियोन नीनो फ़रीना को जो चीज़ विशेष बनाती है वह है इसकी मानवीय और व्यक्तिगत कहानी। यह कार पारिवारिक विरासत का जश्न मनाने के लिए बनाई गई है – पहले F1 विश्व चैंपियन, नीनो फ़रीना, जो पिनिनफ़रीना के संस्थापक बतिस्ता ‘पिनिन’ फ़रीना के भतीजे भी हैं।

ऑटोकार इंडिया से बात करते हुए, ऑटोमोबिली पिनिनफेरिना के मुख्य डिजाइन अधिकारी डेव अमांटिया ने कहा, “लोग तब हैरान रह जाते हैं जब उन्हें पता चलता है कि परिवार में दो दिग्गज लोग थे, बतिस्ता और नीनो, और इसलिए हम इस अनकही कहानी को दुनिया को बताना चाहते थे।”

ऑटोमोबिली पिनिनफेरिना के सीईओ पाओलो डेलाचा ने कहा, “आज के संग्रहकर्ता तुरंत पिनिनफेरिना ब्रांड के मूल्य और आइकन बनाने की हमारी क्षमता को पहचानते हैं और यह संस्करण लक्जरी सेगमेंट को बहुत ही विशिष्ट तरीके से संबोधित करता है।”

कार का प्रीमियर 13 से 16 जुलाई के बीच होने वाले गुडवुड फेस्टिवल ऑफ स्पीड में होगा और इसे एफ1 रेसर और पूर्व गुडवुड हिलक्लाइंब चैंपियन निक हेडफेल्ड चलाएंगे, जिन्होंने बैटिस्टा के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

 

बतिस्ता एडिज़ियोन नीनो फ़रीना डिज़ाइन और शैली

नीनो फ़रीना में कई अद्वितीय डिज़ाइन स्पर्श हैं, जिनमें से सबसे पहले आप ‘रोसो नीनो’ नामक आकर्षक लाल रंग पर ध्यान देंगे। रंग और समग्र बॉडी लाइनों के साथ, आप सोचेंगे कि फेरारी – पिनिनफेरिना ने, आखिरकार, अपनी कई कारों को वर्षों से डिजाइन किया है – लेकिन पेंट एक गहरे लाल धातुई रंग का है जो नीनो की रेस कारों के रंग का जश्न मनाने के लिए है। और जैसा कि अमांतिया बताते हैं, धातु के टुकड़े भी कई अन्य धातु पेंट की तरह लाल होते हैं, चांदी के नहीं।

कार के निचले किनारे को एक सफेद बैंड और एक पतली नीली रेखा द्वारा रेखांकित किया गया है, और यह, पीछे के फेंडर पर चित्रित बड़े ’01’ अंक के साथ, बतिस्ता को एक बहुत अच्छा रेट्रो वाइब देता है। सफेद और नीले रंग की दोहरी टोन वाली डिटेलिंग का उपयोग विंग मिरर और रियर विंग के नीचे भी किया गया है, जहां नीनो का नाम, एक लॉरेल पुष्पांजलि और पहली विश्व चैंपियनशिप का संकेत देने वाली संख्या ’01’ सहित एक और साफ-सुथरी छोटी डिटेल भी है। जीतना। मिश्र धातुएँ एक नए डिज़ाइन की हैं और साटन सोने की छाया में हैं; अन्य विवरण ड्राइवर साइड रियर फेंडर पर नीनो के हस्ताक्षर और हेडलाइट्स में उसका नाम अंकित है।

नीनो फ़रीना को फ्यूरियोसा पैक भी मिलता है जो एनिवर्सारियो में शुरू हुआ था और इसे नियमित बतिस्ता पर भी विकल्प दिया जा सकता है। इसमें एक फ्रंट स्प्लिटर, साइड ब्लेड और एक चौड़ा एयर डिफ्यूज़र होता है जो कॉर्नरिंग डाउनफोर्स को बढ़ाता है।

 

बतिस्ता एडिज़ियोन नीनो फ़रीना इंटीरियर्स

बटरफ्लाई दरवाज़े खोलें और जो चीज़ तुरंत आपका ध्यान खींचेगी वह अलग-अलग रंगों की दो सीटें होंगी। “हम कल्पना करते हैं कि बतिस्ता और नीनो दोनों एक ड्राइव पर निकले हैं, नीनो हमेशा की तरह जोर-जोर से गाड़ी चला रहा है, बगल में उसका गौरवान्वित चाचा है और दो सीटें यही दर्शाती हैं,” अमांतिया कहते हैं। ड्राइवर, या नीनो की सीट, काली है और इसमें एक कढ़ाईदार लॉरेल पुष्पांजलि है और हेडरेस्ट क्षेत्र पर सोने में ’01’ ग्राफिक है। यात्री, या बतिस्ता की सीट, ऊपर पिनिनफेरिना लोगो के साथ बेज रंग में असबाबवाला है।

सीट-बेल्ट बाहरी लहजे के समान नीले रंग में तैयार किए गए हैं, स्टीयरिंग व्हील में ब्रश एल्यूमीनियम, एनोडाइज्ड ब्लैक प्लेट है, जिस पर ‘नीनो फ़रीना’ हस्ताक्षर है। जैसा कि विशेष संस्करण होते हैं, केबिन के चारों ओर कुछ और ‘नीनो फ़रीना’ डिकल्स हैं। इसके अतिरिक्त, नीनो फ़रीना के पाँच उदाहरणों में से प्रत्येक में एक अद्वितीय दरवाज़ा प्लेट है, जो नीनो के जीवन में पाँच मील के पत्थर में से एक का जश्न मनाती है: नीनो की तारीख और जन्म स्थान (ट्यूरिन में 1906); 1950 के ब्रिटिश ग्रां प्री में उनकी पहली F1 पोल पोजीशन और रेस जीत; 1950 में स्विस ग्रां प्री में उनकी दूसरी जीत; 1950 में इटालियन ग्रां प्री में तीसरी और अंतिम जीत; और, अंततः, उनकी 1950 एफ1 विश्व चैम्पियनशिप जीत।

बतिस्ता एडिज़ियोन नीनो फ़रीना पावरट्रेन और प्रदर्शन

नीनो फ़रीना संस्करण बैटिस्टा के समान ऑल-इलेक्ट्रिक ड्राइवट्रेन द्वारा संचालित है, जिसका अर्थ है कि इसमें एक क्वाड मोटर सेटअप मिलता है जो 120kWh बैटरी द्वारा संचालित 1,900hp और 2,340Nm का टॉर्क उत्पन्न करता है। इसके प्रदर्शन के आंकड़े 1.86 सेकंड में 0-100 किमी प्रति घंटे और केवल 4.79 सेकंड में 0-200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ लेते हैं।

हाल ही में, हमने एक नया सेट किया है भारतीय शीर्ष गति रिकॉर्ड NATRAX सुविधा में पिनिनफेरिना बतिस्ता के साथ, 358.03kph की अधिकतम गति तक पहुंच गया। 0-300 किमी प्रति घंटे और क्वार्टर-मील त्वरण के नए विश्व रिकॉर्ड के साथ-साथ कई अन्य रिकॉर्ड भी तब स्थापित किए गए थे, जो तब से टूट गए हैं।

Source link

टाटा नेक्सन डीजल की कीमत, इंजन, विश्लेषण, बीएस6.2, एससीआर और पैसिव एससीआर

कड़े बीएस6 चरण 2 उत्सर्जन मानदंडों ने दूसरों को महंगी एससीआर तकनीक का उपयोग करने के लिए मजबूर किया, लेकिन टाटा ने एक समाधान ढूंढ लिया।

08 जुलाई 2023 08:00:00 पूर्वाह्न पर प्रकाशित

टाटा नेक्सन डीजल

टाटा मोटर्स डीजल इंजनों के मामले में इसे हमेशा सफलता का उचित हिस्सा मिला है। शुरुआती दिनों से ही, मूल सूमो जैसी कारें, सफारी और इंडिका ने डीजल इंजनों की अतिरिक्त टॉर्क और उच्च ईंधन दक्षता की पेशकश की। और जिस बात से बिक्री में मदद मिली, वह यह थी कि टाटा का डीजल किफायती कीमत पर आया था। निश्चित रूप से, ये डीजल इंजन बिल्कुल अत्याधुनिक नहीं थे, और वे कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों में पिछड़ गए। फिर भी, केवल यह तथ्य कि टाटा मोटर्स प्रतिस्पर्धी कीमत वाली डीजल कारें दे सकती है, जबकि अन्य नहीं कर सकते, ने भारतीय कार निर्माता को बढ़त दिला दी।

आज, टाटा मोटर्स अपडेटेड की शुरूआत के साथ इसी प्रतिस्पर्धात्मक लाभ को आगे बढ़ाना चाह रही है नेक्सन डीजल जो हाल ही में पेश किए गए सख्त बीएस6.2 उत्सर्जन मानदंडों को पूरा करता है, लेकिन फिर भी इसे प्रतिस्पर्धी मूल्य पर प्रबंधित करता है। कैसे? बस पैसिव सेलेक्टिव कैटेलिटिक रिडक्शन नामक तकनीक के लागत प्रभावी टुकड़े का उपयोग करके, जो महंगी, पूर्ण-ऑन एससीआर प्रणाली की आवश्यकता को दूर करता है, जिसके लिए यूरिया टैंक और इंजेक्शन प्रणाली की आवश्यकता होती है।

एससीआर – इसकी आवश्यकता क्यों है? यह कैसे काम करता है और यह महंगा क्यों है?

एससीआर या सेलेक्टिव कैटेलिटिक रिडक्शन एक ऐसी प्रक्रिया है जो नाइट्रोजन के हानिकारक ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करने में मदद करती है। आम तौर पर NOx के रूप में जाना जाता है, जहां .

एक सामान्य एससीआर प्रणाली एक एडब्लू टैंक और इंजेक्टर के माध्यम से नाइट्रोजन के ऑक्साइड में अमोनिया जोड़ती है। परिणाम हानिरहित नाइट्रोजन और जल वाष्प है। पैसिव एससीआर के लिए किसी टैंक या इंजेक्शन प्रणाली की आवश्यकता नहीं है, इसलिए आप बहुत बचत करते हैं।

और यह ऐसा कैसे करता है? एससीआर प्रणाली मूल रूप से NOx में अमोनिया मिलाकर काम करती है, इस प्रकार इसे हानिरहित नाइट्रोजन और जल वाष्प में परिवर्तित करती है। NOx को अमोनिया से डुबाने के लिए एक स्वतंत्र इंजेक्शन प्रणाली का उपयोग किया जाता है जिसे डीजल निकास द्रव या AdBlue कहा जाता है जैसा कि यह लोकप्रिय रूप से जाना जाता है। ऐसा करने के लिए, आपको सिस्टम को चलाने के लिए एक अलग AdBlue टैंक, एक इंजेक्टर, सेंसर, एक पंप, प्लंबिंग, वायरिंग और एक समर्पित ECU की आवश्यकता होगी। संक्षेप में, अपने आप में एक अतिरिक्त टैंक और ईंधन प्रणाली। और मूल रूप से यही कारण है कि एससीआर प्रणाली का उपयोग करने वाले भारत स्टेज 6.2-अनुपालक डीजल बहुत अधिक महंगे हो गए हैं।

निष्क्रिय एससीआर, या टाटा ने महंगे हार्डवेयर का उपयोग करने से कैसे परहेज किया

टाटा मोटर्स के इंजीनियर और कंपोनेंट सप्लायर डेल्फ़ी एक ऐसा समाधान लेकर आए हैं जो AdBlue सिस्टम और इसके साथ आने वाले सभी महंगे हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर को ख़त्म कर देता है। सिस्टम, पहली बार नए नेक्सॉन डीजल पर इस्तेमाल किया गया, अधिक लागत प्रभावी लीन एनओएक्स ट्रैप का उपयोग करता है। एलएनटी, जैसा कि इसे कहा जाता है, ऑक्सीकरण और कमी उत्प्रेरक का उपयोग करता है। जब डीजल इंजन धीमी गति से चलता है तो उत्पन्न NOx फंस जाता है और फिर इंजन को चलाकर अवशोषित सामग्री (बेरियम कार्बोनेट) को पुनर्जीवित किया जाता है। हालाँकि, यह प्रक्रिया भारत स्टेज 6.2 मानदंडों को पूरा करने के लिए पर्याप्त साफ नहीं है, इसलिए टाटा एक निष्क्रिय एससीआर प्रणाली का भी उपयोग करता है जो इंजन दहन के माध्यम से अमोनिया उत्पन्न करने और संग्रहीत करने में मदद करता है।

कच्चे उत्सर्जन को कड़ा करना और कम करना

टाटा द्वारा निष्क्रिय एससीआर का उपयोग एक जटिल मल्टी-स्टेज प्रणाली है जो इंजन के कामकाजी मापदंडों को मजबूत करके शुरू होती है। पावर को 110hp से 115hp तक बढ़ाने के अलावा, Tata इंजीनियरों ने Nexon इंजन से निकलने वाले कच्चे उत्सर्जन को भी कम कर दिया है। यह मुख्य रूप से उस बैंड को कसने के द्वारा किया गया है जिसमें डीजल इंजन संचालित होता है या दहन को बेहतर ढंग से नियंत्रित करता है। और इसका मतलब है उपचार के बाद की प्रणालियों के लिए कम काम।

इंजन में बदलाव व्यापक हैं। बेहतर इंजेक्टर, बेहतर सेंसर और बेहतर सॉफ्टवेयर हैं, और हवा और डीजल के संयोजन का तरीका भी बेहतर है। टाटा मोटर्स के उपाध्यक्ष मोहन सावरकर कहते हैं, ”जिस तरह से इंजन के अंदर जलन होती है, जिस तरह से इंजन के अंदर आग फैलती है, वह सब हमारे पिछले इंजन से काफी हद तक संशोधित किया गया है।” “टर्बोचार्जर ट्रिम में भी सुधार हुआ है, जब हवा अंदर जा रही है तो कंप्रेसर के ब्लेड कैसे व्यवहार करते हैं,” और इससे टाटा को प्रवाह के आकार और मात्रा को नियंत्रित करने की अनुमति मिलती है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक इंजन शक्ति होती है।

तो अब दहन बहुत सख्त, बहुत नियंत्रित और बहुत नियंत्रित है।

निष्क्रिय एससीआर: यह कैसे काम करता है

इसके अलावा, टाटा मोटर्स के इंजीनियर थोड़ा अधिक अमोनिया उत्पन्न करने में मदद के लिए इंजन को थोड़े बदले हुए मिश्रण के साथ चलाते हैं। कच्चा डीजल निकास सबसे पहले एलएनटी प्रणाली, डीजल पार्टिकुलेट फिल्टर और एक डीजल ऑक्सीकरण उत्प्रेरक से होकर गुजरता है। सिस्टम सभी NOx और इंजन से निकलने वाले हाइड्रोकार्बन और कणों को रोक लेता है।

इस स्तर पर निकास में कुछ अमोनिया और कुछ NOx रहता है। जैसे ही निकास का स्तंभ आगे बढ़ता है, अमोनिया का कुछ भाग निष्क्रिय एससीआर प्रणाली में जाकर फंस जाता है। तो अगली बार जब कुछ NOx आता है, तो यह इस अमोनिया के साथ मिल जाता है और हानिरहित H2O और N2, या सामान्य नाइट्रोजन में परिवर्तित हो जाता है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह एक चतुर प्रणाली है, लेकिन स्वीकार्यता के कगार पर है और हैरियर और सफारी जैसे बड़े और भारी अनुप्रयोगों के लिए यह प्रभावी नहीं है। उन्हें अधिक महंगी नियमित एससीआर प्रणाली पर निर्भर रहना पड़ता है। टाटा मोटर्स यह भी जानती है कि यह समाधान 1.5 डीजल को उत्सर्जन नियमों के अगले सेट से बचने में मदद नहीं करेगा। लेकिन यह अस्थायी समाधान भी उन्हें उन प्रतिद्वंद्वियों पर काफी बढ़त दिलाएगा जो पहले ही इस क्षेत्र से पूरी तरह बाहर निकल चुके हैं।

यह भी देखें:

टाटा हैरियर फेसलिफ्ट को नए इंटीरियर, फीचर्स के साथ देखा गया

टाटा हैरियर को स्पेन में टेस्टिंग के दौरान देखा गया

Tata Harrier, Safari को CNG नहीं मिलेगी, लेकिन Nexon को मिल सकती है

कॉपीराइट (सी) ऑटोकार इंडिया। सर्वाधिकार सुरक्षित।

Source link